Skip to main content

दुनिया की खतरनाक पाच पर्जातिया

क्या आप सब यह जानते है की हमारी दुनिया में कितनी खतरनाक खतरनाक जीव की प्रजातियां पाई जाती है कुछ जीव तो देखने में बोहोत ही सरल और अच्छे दिखाई देते है पर बोहोत ही खतरनाक होते है तो में कुछ जीवो के बारे में आप सभी को बताता हूं 

1.ब्राजीलियन वेंडिंग स्पाइडर
यहां स्पाइडर साउथ अफ्रीका के घाने जंगल में पाई जाती है और गिनीस बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के अनुसार इस मकड़ी को सबसे ख़तनाक मकड़ी माना जाता है और यह मकड़ी इतनी खतरनाक है यह अपने सिकार की तरफ बड़ी ही तेजी से जाती है और एक ही पल में अपने सीकार का खतामा कर देती है और यह मकड़ी अपने से तीन गुना जायदा बड़े सीकर को भी आसानी से मार देती है इसलिए इस मकड़ी को सबसे ख़तरनाक मकड़ी मानी जाती है.

2. पिराना फिश
इसके ईन नोकीले दातो की वजह से से ही इस मछली का नाम पिराना फिश रखा गया है इस मछली के यह दात किसी बिल्ड से कम नहीं होते है यहां दात इतने पेने होते है कि एक ही वार में किसी भी इन्सान के दो टुकड़े कर सकती है पिराना फिश समुन्दर या बड़ी नदी में बोहोत अधिक मात्रा में पाई जाती है और यह मछली अक्सर झुंड म सीकर करती है और आगर कोई सीकर इनके चुंगुल में फस जाता है तो यह कुछ ही सेकेंड में उसे पूरा खा जाती है.

3.पॉयजन दर्ट फ्रोग
यह फ्रॉग अधिक तर साउथ अमेरिका के वर्षा वनो में पाए जाते है यह फ्रॉग दिखने में बोहोत ही खूबसूरत होते है और इनके के रंग इतने सुन्दर होते है कि किसी को भी लुभा सकते है और जिस वजह से इंसान इसके नजदीक चला जाता है और मारा जाता है क्युकी माना जाता है कि इनका काटा हुआ इन्सान आधा घंटा भी जिंदा नहीं रहे पाता है इन फ्रॉग में इतना जहर होता है कि यह एक बार में ही दस इन्सान को मार सकते है.

4.बूम सलेंग
बूम सलेग नाम का यह साप एक बोहोत ही खतरनाक सीकरी माना जाता है और इस तरह के साप साउथ अफ्रीका की गाठियो में पाए जाते है और यह अक्सर दूसरे सापो को अपना सीकर बनाते है सीकर करते समय यह साप किस भी पेड़ या पहाड़ पर आसानी से चड़ जाते है वैसे तो यह साप बेहद ही खबसूरत और खतरनाक है पर यह साप आब लिप्त होने की कादार पर है यही कारण है कि यह साप आब बोहोत ही काम मात्रा में दिखते है

5.ब्लू रिंग ऑक्टूपास
इस अक्टूपास को यह नाम इसके उप्पर पड़े गोल नीले धब्बों की वजह से मिला है दिखने म यह जीव बेहद ही खूसूरत दिखाई देता है परन्तु इस ऑक्टूपस के अंदर इतना जहर होता है कि यह 26 आदमियों को कुछ ही मिनटों में मार सकता है इस अक्टूपस के अंदर एक अजीब तरह के केमिकल से जहर बनता है जिस कारण आज तक इसके जहर का कोई तोड़ नहीं बन पाया है इस कारण इस ऑक्टूपस को पानी का एक बोहोत ही खतरनाक जीव माना जाता है

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

ज्ञान की सबसे अच्छी बात

ज्ञान की सबसे अच्छी बात

ज्ञान किसी व्यक्ति या किसी चीज़, जैसे तथ्यों, सूचनाओं, विवरणों या कौशल की परिचितता, जागरूकता या समझ है, जिसे अनुभव, शिक्षा, या सीखने के द्वारा अनुभव या शिक्षा के माध्यम से अधिग्रहित किया जाता है। ज्ञान किसी विषय की सैद्धांतिक या व्यावहारिक समझ को संदर्भित कर सकता है। यह अंतर्निहित (व्यावहारिक कौशल या विशेषज्ञता के साथ) या स्पष्ट हो सकता है (जैसा कि किसी विषय की सैद्धांतिक समझ के साथ); यह कम या ज्यादा औपचारिक या व्यवस्थित हो सकता है। ज्ञान के अध्ययन को महामारी कहा जाता है; दार्शनिक प्लेटो ने प्रसिद्ध रूप से "उचित सत्य विश्वास" के रूप में परिभाषित ज्ञान को परिभाषित किया है, हालांकि इस परिभाषा को अब कुछ विश्लेषणात्मक दार्शनिकों द्वारा उद्धृत किया गया है [उद्धरण वांछित] समस्याग्रस्त होने के कारण गेटियर की समस्याएं अन्यथा प्लैटोनिक परिभाषा की रक्षा करती हैं। हालांकि, ज्ञान की कई परिभाषाएं और सिद्धांतों को समझाने के लिए सिद्धांत मौजूद हैं।

आपकी सबसे प्रिय हिन्दी कविता कौन सी है?

मुझे सबसे अधिक हिंदी की दो कवितायें पसंद है | एक तो पुष्प की अभिलाषा जिसका उल्लेख अनेक उत्तरो में हुआ है, फिर भी मैं नीचे दोबारा लिखती हूँ : चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँ, चाह नहीं, प्रेमी-माला में बिंध प्यारी को ललचाऊँ, चाह नहीं, सम्राटों के शव पर हे हरि, डाला जाऊँ, चाह नहीं, देवों के सिर पर चढ़ूँ भाग्य पर इठलाऊँ। मुझे तोड़ लेना वनमाली! उस पथ पर देना तुम फेंक, मातृभूमि पर शीश चढ़ाने जिस पर जावें वीर अनेक - माखनलाल चतुर्वेदी दूसरी कविता हैं, जो बीत गयी सो बात गयी| जीवन में एक सितारा था माना वह बेहद प्यारा था वह डूब गया तो डूब गया अम्बर के आनन को देखो कितने इसके तारे टूटे कितने इसके प्यारे छूटे जो छूट गए फिर कहाँ मिले पर बोलो टूटे तारों पर कब अम्बर शोक मनाता है जो बीत गई सो बात गई जीवन में वह था एक कुसुम थे उसपर नित्य निछावर तुम वह सूख गया तो सूख गया मधुवन की छाती को देखो सूखी कितनी इसकी कलियाँ मुरझायी कितनी वल्लरियाँ