Skip to main content

इंग्लैंड की महारानी एलिज़ाबेथ-II के बारे में कुछ रोचक बातें।

दोस्तों आज हम जानेंगे इंग्लैंड की महारानी एलिज़ाबेथ-II के बारे में कुछ रोचक बातें जो शायद आपको नही पता होगी।




वे सिर्फ इंग्लैंड की ही महारानी नही है बल्कि ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड और कनाडा की भी महारानी है। वे सन 1952 से राज कर रही है। महारानी एलिजाबेथ-II का जन्म 21 अप्रैल 1926 में हुआ था। उनके पिता का नाम जोर्ड-VI और माता का नाम एलिज़ाबेथ था। महारानी एलिजाबेथ ने 1945 में प्रिंस फिलिप से शादी की और उनकी बहन थी प्रिंसेस मार्ग्रेट। भारत की आज़ादी के बाद से अब तक महारानी एलिजाबेथ ने 3 बार भारत का दौरा किया। वे पहली बारे अपने पति प्रिंस फिलिप के साथ 1961 में भारत घूमने के लिए थे। तब उन्होंने मुम्बई चेन्नई जैसे बड़े बड़े शहरों का दौरा किया।




चलिये जानते है महारानी एलिजाबेथ के कुछ ऐसे अधिकार जिनके बारे में जान कर आप हैरान ही जायेंगे। भले ही महारानी एलिज़ाबेथ की धन संपत्ति कम है पर उनके पास जो ताकत है वो दुनिया की किसी दूसरी महिला के पास नही है। वे दुनिया की ऐसी ताकतवर महिला है जो किसी भी कानून से ऊपर है। महारानी II- एलिजाबेथ को गाड़ी चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस की जरूरत नही पड़ती है। वो किसी भी देश में बिना लाइसेंस के ड्राइविंग कर सकती है। वे दुनिया के किसी भी देश में जा कर वहाँ का ट्रैफिक सिग्नल तोड़ सकती है। वे किसी भी दुकान से जा कर सामान उठा सकती है और कोई भी उन्हें इसके कुछ नही कह सकता है। रानी अगर चाहे तो वो किसी भी देश के साथ युद्ध छेड़ सकती है और किसी भी देश के साथ समझौता भी कर सकती है। अगर खुद ब्रिटैन की सरकार भी युद्ध घोषित करे तो उन्हें रानी की अनुमति लेनी पड़ती है। अगर रानी चाहे तो ऑस्ट्रेलिया और कनाडा की सरकारो को भी बर्खास्त कर सकती है।



1975 में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री को बर्खास्त कर दिया था। राष्ट्रीय आपातकाल घोषित होने पर रानी किसी भी प्राइवेट प्रॉपर्टी पर कब्ज़ा कर सकती है इसके साथ अगर महारानी एलिजाबेथ चाहे तो किसी की भी हत्या कर सकती है फिर भी उन्हें कोई सजा नही होगी। रानी 2nd एलिज़ाबेथ की जितनी मर्ज़ी हो उतना नोट छाप सकती है और उसे इस्तेमाल बि कर सकती है और ये भी सुना जाता है कि उनके पास एक नोट छापने की भी मशीन है। रानी 2nd एलिज़ाबेथ को टैक्स नही देना पड़ता है। रानी एलिज़ाबेथ की तस्वीर कई देशो नोटों पर भी छपी हुई है। छूट होने के बावजूद फिर भी वे अपना टैक्स भरती है। रानी किसी भी प्रस्ताविक कानून को ठुकरा सकती है और वे चाहे तो उस प्रस्ताविक कानून को ना मंज़ूर कर सकती है। अगर यूनाइटेड किंगडम को कोई भी कानून को लागू करना होता है तो उसके लिए भी रानी के अनुमति की जरूरत होती है।



ब्रिटैन में पासपोर्ट रानी के अनुमति के बिना जारी नही हो सकता है तो इस लिए रानी को अपना पासपोर्ट जारी करने की कोई जरूरत नही होती है। उन्हें किसी भी देश में सफर करने के लिए पासपोर्ट की जरूरत नही पड़ती है। अगर रानी चाहे तो दुनिया के किसी भी कोने में जा कर कोई भी कानून तोड़ सकती है पर उन्होंने ट्रैफिक सिग्नल जैसे छोटे कानून तोड़ने के अलावा और दूसरे कोई भी कानून नही तोड़े

Comments

Popular posts from this blog

दुनिया की खतरनाक पाच पर्जातिया

क्या आप सब यह जानते है की हमारी दुनिया में कितनी खतरनाक खतरनाक जीव की प्रजातियां पाई जाती है कुछ जीव तो देखने में बोहोत ही सरल और अच्छे दिखाई देते है पर बोहोत ही खतरनाक होते है तो में कुछ जीवो के बारे में आप सभी को बताता हूं 

1.ब्राजीलियन वेंडिंग स्पाइडर
यहां स्पाइडर साउथ अफ्रीका के घाने जंगल में पाई जाती है और गिनीस बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के अनुसार इस मकड़ी को सबसे ख़तनाक मकड़ी माना जाता है और यह मकड़ी इतनी खतरनाक है यह अपने सिकार की तरफ बड़ी ही तेजी से जाती है और एक ही पल में अपने सीकार का खतामा कर देती है और यह मकड़ी अपने से तीन गुना जायदा बड़े सीकर को भी आसानी से मार देती है इसलिए इस मकड़ी को सबसे ख़तरनाक मकड़ी मानी जाती है.

2. पिराना फिश
इसके ईन नोकीले दातो की वजह से से ही इस मछली का नाम पिराना फिश रखा गया है इस मछली के यह दात किसी बिल्ड से कम नहीं होते है यहां दात इतने पेने होते है कि एक ही वार में किसी भी इन्सान के दो टुकड़े कर सकती है पिराना फिश समुन्दर या बड़ी नदी में बोहोत अधिक मात्रा में पाई जाती है और यह मछली अक्सर झुंड म सीकर करती है और आगर कोई सीकर इनके चुंगुल में फस जाता ह…

ज्ञान की सबसे अच्छी बात

ज्ञान की सबसे अच्छी बात

ज्ञान किसी व्यक्ति या किसी चीज़, जैसे तथ्यों, सूचनाओं, विवरणों या कौशल की परिचितता, जागरूकता या समझ है, जिसे अनुभव, शिक्षा, या सीखने के द्वारा अनुभव या शिक्षा के माध्यम से अधिग्रहित किया जाता है। ज्ञान किसी विषय की सैद्धांतिक या व्यावहारिक समझ को संदर्भित कर सकता है। यह अंतर्निहित (व्यावहारिक कौशल या विशेषज्ञता के साथ) या स्पष्ट हो सकता है (जैसा कि किसी विषय की सैद्धांतिक समझ के साथ); यह कम या ज्यादा औपचारिक या व्यवस्थित हो सकता है। ज्ञान के अध्ययन को महामारी कहा जाता है; दार्शनिक प्लेटो ने प्रसिद्ध रूप से "उचित सत्य विश्वास" के रूप में परिभाषित ज्ञान को परिभाषित किया है, हालांकि इस परिभाषा को अब कुछ विश्लेषणात्मक दार्शनिकों द्वारा उद्धृत किया गया है [उद्धरण वांछित] समस्याग्रस्त होने के कारण गेटियर की समस्याएं अन्यथा प्लैटोनिक परिभाषा की रक्षा करती हैं। हालांकि, ज्ञान की कई परिभाषाएं और सिद्धांतों को समझाने के लिए सिद्धांत मौजूद हैं।

आपकी सबसे प्रिय हिन्दी कविता कौन सी है?

मुझे सबसे अधिक हिंदी की दो कवितायें पसंद है | एक तो पुष्प की अभिलाषा जिसका उल्लेख अनेक उत्तरो में हुआ है, फिर भी मैं नीचे दोबारा लिखती हूँ : चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँ, चाह नहीं, प्रेमी-माला में बिंध प्यारी को ललचाऊँ, चाह नहीं, सम्राटों के शव पर हे हरि, डाला जाऊँ, चाह नहीं, देवों के सिर पर चढ़ूँ भाग्य पर इठलाऊँ। मुझे तोड़ लेना वनमाली! उस पथ पर देना तुम फेंक, मातृभूमि पर शीश चढ़ाने जिस पर जावें वीर अनेक - माखनलाल चतुर्वेदी दूसरी कविता हैं, जो बीत गयी सो बात गयी| जीवन में एक सितारा था माना वह बेहद प्यारा था वह डूब गया तो डूब गया अम्बर के आनन को देखो कितने इसके तारे टूटे कितने इसके प्यारे छूटे जो छूट गए फिर कहाँ मिले पर बोलो टूटे तारों पर कब अम्बर शोक मनाता है जो बीत गई सो बात गई जीवन में वह था एक कुसुम थे उसपर नित्य निछावर तुम वह सूख गया तो सूख गया मधुवन की छाती को देखो सूखी कितनी इसकी कलियाँ मुरझायी कितनी वल्लरियाँ