Skip to main content

Posts

Showing posts from September, 2018

ठग ऑफ़ हिंदुस्तान की सच्ची कहानी

ठग ऑफ़ हिंदुस्तान की सच्ची कहानी


ठग एक ऐसा शब्द जिसे इतिहास के पन्नो में लिखा तो गया लेकिन इसे सिर्फ और सिर्फ इतिहास बना कर भुलाया नही जा सका। बल्कि समय समय पर इसकी बहुत सारी चर्चाएं भी होती रही और दोस्तों ठग की ही एक चर्चित कहानी पर बेस है अमीर खान की आने वाली फिल्म ठग ऑफ़ हिंदुस्तान।


यह फिल्म मूल रूप से 1839 में फिलिप मीडोज टेलर के द्वारा लिखी गयी नॉवेल कॉन्फेशन ऑफ़ ठग के ऊपर आधारित है। जहाँ भारत और ब्रिटिश के एक ठगी कल्चर के बारे में बताया गया है और दोस्तों यह नॉवेल पब्लिश होने के बाद से ही इतनी ज्यादा प्रसिद्ध हुई की इसे 19वी शताब्दी का बेस्ट सेल्लिंग बुक का टाइटल दिया गया और रानी विक्टोरिया भी इस नॉवेल की रीडर बनी।



दरअसल ठग शब्द एक समय पर शातिर चोरो और हत्त्यारो के लिए इस्तेमाल किया जाता था जो की कई सालों तक भारत के जगह जगह पर घूम कर चोरी किया करते थे और खास कर कस वह अंग्रेजो और व्यापारियों को अपना निशाना बनाया करते थे और कहा जाता है कि जब अंग्रेज़ो के हमारे देश के राजा महाराजा भी हार मान चूके थे तब इन ठगों ने अंग्रेज़ो के नाक में दम कर रखा था और इनका मर्डर करने का तरीका भी बहुत ही अ…

जानिए वैंपायर वूमेन के बारे में यह कौन है और यह कैसी है

Hindi Story of Real Life Vampire Woman:

संसार में ऐसे जुनूनी लोगों की कोई कमी नहीं है जो अलग दिखने की चाहत में कुछ भी कर सकते है। हम अपने ब्लॉग पर पहले भी बहुत कुछ अनोखे लोगो के बारे में बता चुके है पर आज की कहानी है खूबसूरत मेक्सिकन महिला मारिया क्रिस्टर्ना की जिसने अपने आप को एक रियल वैम्पायर में तब्दील कर लिया है।

मारिया किस्टर्ना:-या महिला एक ऐसी महिला है जिसने अपने आप को एकदम vampire में तब्दील करा लिया है इस महिला के ऊपर हुए अत्याचार से इसे उत्साह मिलती थी जिस का कारण यहां बना कि इस महिला ने अपने ऊपर टैटू बनवा लिए और अपने शरीर को इस तरह से उन्होंने तब्दील करवाया कि यहां आज के समय की वैंपायर वूमेन कहलाती है इन्हें अगर आप देख ले तो आप डर ही जाएंगे वैसे तो यह महिला पैसे से एक वकील हैं और लोगों की मदद करती है अपने ऊपर हुए अत्याचारों उसे यह दूसरी महिलाओं का दर्द समझ लेती है और वह अपने जैसी बहुत सी महिलाओं की मदद करती हैं लेकिन इनके टैटू और इनके पहनावे को देखकर कोई नहीं कह सकता है

कि यहां महिला कोई वकील है इस महिला को देखकर सब लोगों का यही कहना होता है यह तो एक दम पर हैं या महिला बहु…

फेसबुक का निर्माण कैसे हुआ

दोस्तों दुनिया में यु तो रोज़ाना हज़ारो लोग जन्म लेते है लेकिन कुछ लोग दुनिया बदलने के लुये पैदा होते है। मार्क ज़ुकेरबर्ग भी एक ऐसा नाम है जिसने अपने जीवन में ऐसी उचाईयो को छुआ है जहा पहुँचाना एक सामान्य व्यक्ति के लिए सपने के जैसा है। आज का हर युवा फेसबुक के मालिक मार्क ज़करबर्ग की तरह बनना चाहता है।






14 मई 1984 को मार्क ज़करबर्ग का जन्म हुआ। मार्क को बचपन से ही कंप्यूटर्स का बहुत शौक था जिसकी वजह से वह छोटी से उम्र से ही कंप्यूटर के प्रोग्राम लिखने लगे थे। उसके पिता उनको प्रोगरामिंग करने में बहुत मदद करते थे लेकिन मार्क का दिमाग इतना तेज़ था कि वह उनके सवालो के जवाब नही दे पाते थे। जिसके कारण मार्क के लिए उन्हें कंप्यूटर टीचर बुलाना पड़ा। जो मार्क को रोजाना कंप्यूटर प्रोगरामिंग सिखाया करता था। मार्क की तेज़ बुद्धि का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है की छोटी सी उम्र में ही मार्क अपने कंप्यूटर टीचर को फ़ैल कर दिया करते थे। उनके अनुभवी टीचर भी उनकी बातों का जवाब नही दे पाते।


 मार्क ने 12 साल की छोटी उम्र में ही एक messanger बनाया। जिसका नाम उन्होंने zuck net रखा । zuck net का प्रयोग वह अपने घ…