Skip to main content

जानिए वैंपायर वूमेन के बारे में यह कौन है और यह कैसी है

Hindi Story of Real Life Vampire Woman:

संसार में ऐसे जुनूनी लोगों की कोई कमी नहीं है जो अलग दिखने की चाहत में कुछ भी कर सकते है। हम अपने ब्लॉग पर पहले भी बहुत कुछ अनोखे लोगो के बारे में बता चुके है पर आज की कहानी है खूबसूरत मेक्सिकन महिला मारिया क्रिस्टर्ना की जिसने अपने आप को एक रियल वैम्पायर में तब्दील कर लिया है।

मारिया किस्टर्ना:-या महिला एक ऐसी महिला है जिसने अपने आप को एकदम vampire में तब्दील करा लिया है इस महिला के ऊपर हुए अत्याचार से इसे उत्साह मिलती थी जिस का कारण यहां बना कि इस महिला ने अपने ऊपर टैटू बनवा लिए और अपने शरीर को इस तरह से उन्होंने तब्दील करवाया कि यहां आज के समय की वैंपायर वूमेन कहलाती है इन्हें अगर आप देख ले तो आप डर ही जाएंगे वैसे तो यह महिला पैसे से एक वकील हैं और लोगों की मदद करती है अपने ऊपर हुए अत्याचारों उसे यह दूसरी महिलाओं का दर्द समझ लेती है और वह अपने जैसी बहुत सी महिलाओं की मदद करती हैं लेकिन इनके टैटू और इनके पहनावे को देखकर कोई नहीं कह सकता है

कि यहां महिला कोई वकील है इस महिला को देखकर सब लोगों का यही कहना होता है यह तो एक दम पर हैं या महिला बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य में अपना योगदान भी देती है या अमेरिका की रहने वाली है और अपने जीवन को एक महत्वपूर्ण योगदान देना चाहती हैं इस कारण यह लोगों की मदद करती हैं जिसमें से ज्यादातर महिलाएं होती है जिनके ऊपर घरेलू अत्याचार हो रहे हो इस महिला के ऊपर सेलिब्रिटी बनने का इतना शौक था कि यह अपने शरीर को तब्दील करवा दी गई और एक दिन यह कुछ इस तरह दिखने लगी कि यह वैंपायर लगने लगी इस रूप को देखकर लोग इन्हें वैंपायर वूमेन भी कहने लगे हैं

Comments

Popular posts from this blog

दुनिया की खतरनाक पाच पर्जातिया

क्या आप सब यह जानते है की हमारी दुनिया में कितनी खतरनाक खतरनाक जीव की प्रजातियां पाई जाती है कुछ जीव तो देखने में बोहोत ही सरल और अच्छे दिखाई देते है पर बोहोत ही खतरनाक होते है तो में कुछ जीवो के बारे में आप सभी को बताता हूं 

1.ब्राजीलियन वेंडिंग स्पाइडर
यहां स्पाइडर साउथ अफ्रीका के घाने जंगल में पाई जाती है और गिनीस बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के अनुसार इस मकड़ी को सबसे ख़तनाक मकड़ी माना जाता है और यह मकड़ी इतनी खतरनाक है यह अपने सिकार की तरफ बड़ी ही तेजी से जाती है और एक ही पल में अपने सीकार का खतामा कर देती है और यह मकड़ी अपने से तीन गुना जायदा बड़े सीकर को भी आसानी से मार देती है इसलिए इस मकड़ी को सबसे ख़तरनाक मकड़ी मानी जाती है.

2. पिराना फिश
इसके ईन नोकीले दातो की वजह से से ही इस मछली का नाम पिराना फिश रखा गया है इस मछली के यह दात किसी बिल्ड से कम नहीं होते है यहां दात इतने पेने होते है कि एक ही वार में किसी भी इन्सान के दो टुकड़े कर सकती है पिराना फिश समुन्दर या बड़ी नदी में बोहोत अधिक मात्रा में पाई जाती है और यह मछली अक्सर झुंड म सीकर करती है और आगर कोई सीकर इनके चुंगुल में फस जाता ह…

ज्ञान की सबसे अच्छी बात

ज्ञान की सबसे अच्छी बात

ज्ञान किसी व्यक्ति या किसी चीज़, जैसे तथ्यों, सूचनाओं, विवरणों या कौशल की परिचितता, जागरूकता या समझ है, जिसे अनुभव, शिक्षा, या सीखने के द्वारा अनुभव या शिक्षा के माध्यम से अधिग्रहित किया जाता है। ज्ञान किसी विषय की सैद्धांतिक या व्यावहारिक समझ को संदर्भित कर सकता है। यह अंतर्निहित (व्यावहारिक कौशल या विशेषज्ञता के साथ) या स्पष्ट हो सकता है (जैसा कि किसी विषय की सैद्धांतिक समझ के साथ); यह कम या ज्यादा औपचारिक या व्यवस्थित हो सकता है। ज्ञान के अध्ययन को महामारी कहा जाता है; दार्शनिक प्लेटो ने प्रसिद्ध रूप से "उचित सत्य विश्वास" के रूप में परिभाषित ज्ञान को परिभाषित किया है, हालांकि इस परिभाषा को अब कुछ विश्लेषणात्मक दार्शनिकों द्वारा उद्धृत किया गया है [उद्धरण वांछित] समस्याग्रस्त होने के कारण गेटियर की समस्याएं अन्यथा प्लैटोनिक परिभाषा की रक्षा करती हैं। हालांकि, ज्ञान की कई परिभाषाएं और सिद्धांतों को समझाने के लिए सिद्धांत मौजूद हैं।

आपकी सबसे प्रिय हिन्दी कविता कौन सी है?

मुझे सबसे अधिक हिंदी की दो कवितायें पसंद है | एक तो पुष्प की अभिलाषा जिसका उल्लेख अनेक उत्तरो में हुआ है, फिर भी मैं नीचे दोबारा लिखती हूँ : चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँ, चाह नहीं, प्रेमी-माला में बिंध प्यारी को ललचाऊँ, चाह नहीं, सम्राटों के शव पर हे हरि, डाला जाऊँ, चाह नहीं, देवों के सिर पर चढ़ूँ भाग्य पर इठलाऊँ। मुझे तोड़ लेना वनमाली! उस पथ पर देना तुम फेंक, मातृभूमि पर शीश चढ़ाने जिस पर जावें वीर अनेक - माखनलाल चतुर्वेदी दूसरी कविता हैं, जो बीत गयी सो बात गयी| जीवन में एक सितारा था माना वह बेहद प्यारा था वह डूब गया तो डूब गया अम्बर के आनन को देखो कितने इसके तारे टूटे कितने इसके प्यारे छूटे जो छूट गए फिर कहाँ मिले पर बोलो टूटे तारों पर कब अम्बर शोक मनाता है जो बीत गई सो बात गई जीवन में वह था एक कुसुम थे उसपर नित्य निछावर तुम वह सूख गया तो सूख गया मधुवन की छाती को देखो सूखी कितनी इसकी कलियाँ मुरझायी कितनी वल्लरियाँ